नव जीवन ज्योति से जगमग

0
51

भारत के कोने-कोने से , हम सब बच्चे आए हैं।

नई उमंगों आशाओं का हम संदेशा लाए हैं ।।

हिमगिरि की ऊँचाई लाए, हम सागर की गहराई ।

हम पूरब से आए लाए, प्रातः किरण की अरुणाई ।।

नव जीवन ज्योति से जगमग, दीप जलाने आए हैं ।। १ ।।

धरती की शान 👇https://aryaveerdal.in/dharti-ki-shan/

हम पश्चिम से आए लाए, आग राग राजस्थानी ।

हम लाए हैं गंग-यमुन के संगम का निर्मल पानी ।।

आपस में हम भाई-भाई, गले लगाने आए हैं ।। २ ।।

कल आने वाली दुनिया को, हम कुछ कर दिखलाएँगे ।

भारत के ऊँचे माथे को ऊँचा और उठाएँगे।

भारत माता के चरणों में शीश झुकाने आए हैं ।।३।।

निकल रहा सूरज प्राची में 👇https://aryaveerdal.in/nikal-rha-suraj-prachi-me/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here