आर्य वीर दल समापन समारोह सम्भल

0
159

संस्कृति रक्षा की जिम्मेदारी आर्य वीर दल की – पंकज आर्य

प्रान्तीय संचालक रजपुरा/ धनारी

धनारी क्षेत्र के आर्थल चौराहे के पास स्थित वैदिकांचल गुरूकुल बायभूड़ में आर्य वीर दल सम्भल के तत्वावधान में चरित्र निर्माण आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर का दीक्षांत समारोह समारोह का आयोजन किया गया। महर्षि दयानंद सरस्वती जी के 2024 में जन्म के 200 वर्ष पूर्ण होने एवं आर्य समाज की स्थापना के 150 वर्ष पूर्ण होने पर आर्य वीर दल सम्भल के तत्वावधान में आर्य वीर चरित्र निर्माण एवं आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर का आयोजन गुरुकुल बायभूड़ में चार जुलाई को प्रारम्भ होकर विभिन्न तैयारियों का प्रदर्शन 10 जुलाई को सायं चार बजे दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया।

आर्य वीरों को सिखाया गया सर्वांग सुन्दर व्यायाम के साथ अन्य कमाण्डों ट्रेनिंग :-

जिसमें आर्य वीरों ने सर्वांगीण विकास के लिए सर्वांग सुन्दर व्यायाम, आसन, रस्सा मलखम, यज्ञ, योग, कमाण्डों ट्रेनिंग, तलवार, लेजियम, डम्बल, भाला, स्तूप का प्रदर्शन किया जिसमें डी पी यादव ने कहा कि आर्य वीरों ने देश के विपत्तियों में समाज सेवा की स्वामी श्रद्धानंद के बलिदान के बाद आर्य वीर दल की स्थापना हुई जिसकी नींव ही शहादत के साथ हुई है।

ध्वजावतरण कर किया गया शिविर का समापन :-

वह संगठन वास्तव में अनुकरणीय है आर्य वीर दल के प्रांतीय संचालक पंकज आर्य ने आर्य वीरों को संस्कृति रक्षा, शक्ति संचय, सेवा की शपथ दिलाई और कहा की भारत की संस्कृति की रक्षा आर्य वीर दल ही कर सकता है।

ध्वजावतरण कर शिविर का समापन किया गया सभी शिविर में आर्य समाज हरफरी की ओर से ब्रह्मानन्द सरस्वती द्वारा रचित प्रेरक कथानक आर्य वीर पुस्तक वितरण की गई शिविर में बौद्धिक, शारीरिक, अनुशासन, सेवा में प्रथम द्वितीय तृतीय स्थान प्राप्त करने वालों का सम्मान किया गया।

कार्यक्रम में दयाशंकर आर्य, जीवन सिंह आर्य प्राचार्य गुरूकुल साधु आश्रम, रामवीर शास्त्री, यशपाल शास्त्री, ज्योति वसु आर्य, डॉ कुंवरपाल शास्त्री, भुवनेश शिक्षक, यक्षदेव आर्य, दिनेश आर्य आदि लोगों के साथ क्षेत्रीय आर्य समाज के कार्यकर्ता मौजूद रहे।

सार्वदेशिक आर्य वीरांगना दल का राष्ट्रीय शिविर सम्पन्न

आर्यवीरों व वीरांगनाओ के परिवारों के लिए आर्य विचार निर्माण सत्र।

आर्य वीर दल द्वारा जुलाई-अगस्त का निर्देश 2023

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here