प्रान्तीय शिविर में 800 आर्यवीरों का हुआ

0
254

प्रान्तीय शिविर में 800 आर्यवीरों का हुआ यज्ञोपवीत संस्कारगुरुकुल के प्राचार्य डाॅ. सूबे प्रताप ने युवाओं को दिये व्यक्तित्व विकास के टिप्स, समाज से नशाखोरी, अज्ञानता, पाखण्ड को दूर करने का लिया संकल्पकुरुक्षेत्र, 04 जून 2023: गुरुकुल में चल रहे प्रान्तीय आर्यवीर दल शिविर में आज सभी 800 आर्यवीरों का यज्ञोपवीत संस्कार सम्पन्न हुआ। आचार्य दयाशंकर शास्त्री जी के मार्गदर्शन वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच सभी आर्यवीरों ने जनेऊ धारण किया। उन्होंने कहा कि यज्ञोपवीत के ये तीन धागे हमें अपने देवों के प्रति, हमारे ऋषियों के प्रति तथा हमारे माता-पिता के प्रति हमारे जो ऋण, कत्र्तव्य और दायित्व हैं उनका स्मरण कराते हैं। पहला ऋण माता-पिता का ऋण है, दूसरा ऋण गुरुओं का ऋण है तथा तीसरा ऋण ऋषि ऋण होता है, हमें इन तीनों ऋणों से उऋण होने के लिए अच्छे आचरण और उत्तम कार्य करने चाहिए। उन्होंने कहा कि यज्ञोपवीत धारण करने वाले युवा भाग्यशाली है, यह कोई मामूली धागा नहीं है मुगलकाल में वीर हकीकत राय ने वैदिक धर्म निभाते हुए अपने जीवन का बलिदान कर दिया था। उन्होंने चोटी और यज्ञोपवीत उतारने की बजाए अपने प्राणों की आहूति दे दी थी इसलिए वैदिक संस्कृति में यज्ञोपवीत का बड़ा महत्त्व है। यज्ञोपवीत संस्कार के उपरान्त सभी आर्यवीरों ने समाज से पाखण्ड, अंधविश्वास आदि बुराइयों को मिटाने का संकल्प लिया। यज्ञोपवीत संस्कार में वैदिक विद्वान पंकज आर्य, विशाल आर्य, मनीराम आर्य, जसविन्द्र आर्य, पवन आर्य, अमित आर्य सहित सभी शिक्षकगण उपस्थित रहे। बौद्धिक सत्र में गुरुकुल के प्राचार्य डाॅ. सुबे प्रताप ने शिविरार्थियों को व्यक्तित्व विकास के टिप्स दिये।

उन्होंने कहा कि जीवन में हमेशा अच्छे लोगों की संगति करनी चाहिए क्योंकि जब आप अच्छे लोगों के साथ रहोगे तो आपके अन्दर अच्छे गुणों का विकास स्वयं ही हो जाएगा। उन्होंने कहा कि गुण और अवगुण सभी में होते हैं मगर जो लोग अपने अवगुणों को दूर करके गुणों का विकास करते हैं, हमेशा समाज कल्याण के कार्य हेतु तत्पर रहते हैं वहीं जीवन में उन्नति के शिखर पर पहुंचते हैं। प्राचार्य सूबेप्रताप ने कहा कि हमें अपने आचरण और व्यवहार में मधुरता लानी चाहिए, दूसरों से जैसे व्यवहार की अपेक्षा करते हैं, स्वयं भी वैसा ही व्यवहार करें। छोटी-छोटी बातों पर निराश न हों, असफलताओं से कतई न घबराएं बल्कि समय के एक-एक क्षण का सदुपयोग करते हुए अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए एकाग्रचित्र होकर लगातार प्रयत्न करें, आप अवश्य सफल होंगे। तत्पश्चात भजनोपदेशक जयपाल आर्य ने ईश्वर भक्ति गीत ‘प्रभु तेरी चतुराई…’ भजन सुनाकर आर्यवीरों को ईश्वर की अद्भुत कला से अवगत कराया। शिविर में पहुंचने पर संयोजक संजीव आर्य ने प्राचार्य डाॅ. सुबे प्रताप का आभार व्यक्त किया। बता दें कि महामहिम राज्यपाल आचार्य श्री देव्रवत जी की प्रेरणा एवं आर्य प्रतिनिधि सभा हरियाण के तत्त्वावधान में चल रहे प्रान्तीय आर्य वीर दल शिविर में कुरुक्षेत्र, कैथल, पानीपत, जीन्द, हिसार जिलों के लगभग 120 गाँवों से 800 युवा भाग ले रहे हैं जिन्हें आर्य वीर दल के 20 से अधिक शिक्षकों द्वारा जूड़ो-कराटे, लाठी संचलन, डम्बल, लेजियम, स्तूप-निर्माण, दंड-बैठक तथा विभिन्न योगासनों के शारीरिक प्रशिक्षण के अतिरिक्त महाशय जयपाल आर्य, वैदिक विद्वान पंकज आर्य, संदीप आर्य आदि विद्वानों द्वारा बौद्धिक ज्ञान भी प्रदान किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि शिविर में युवाओं को नशाखोरी, कन्या भ्रूण हत्या, पाखण्ड, गुरुड़म जैसी बुराइयों को समाप्त करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है जिससे वे न केवल अपना जीवन सुधार सके बल्कि दूसरे युवाओं को भी सद्मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here