हमको है अभिमान देश का

0
39
हमको है अभिमान देश का ।

जिसके पाँव पखारे सागर, गंगा भरे संवारे गागर ।

शोभित जिस पर स्वर्ग वही तो, शीश मुकुट हिमवान् देश का।।१।।

जिसके रजकण का कर चन्दन, झुक झुक नभ करता पद वन्दन ।

कली कली का प्राण बोलता, स्वर्ण रश्मि का गान देश का ।। २।।

यह गगन हमारा है 👇 https://aryaveerdal.in/yah-gagan-hamara-hai/

कोटि बाहु में शक्ति इसी की, कोटि प्राण में भक्ति इसी की ।

कोटि कोटि कण्ठों में गुञ्जित, मधुर मधुर जयगान देश का।।३।।

इस पर तन मन प्राण निछावर, भाग्य और भगवान निछावर ।

सींच खून से हम देखेंगे, मुख पङ्कज अम्लान देश का । । ४ । ।

भारत के तुम वीर सिपाही 👇https://aryaveerdal.in/bharat-ke-tum-veer-sipahi/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here